माना मैं मजबूर हूँ लेकिन लिरिक्स | Mana Main Majbur Hu Lekin Lyrics | HINDI, ENGLISH,

घनश्याम तेरी बंसी, पागल कर जाती है,  Mana Main Majbur Hu Lekin Lyrics  in Hindi

घनश्याम तेरी बंसी,
पागल कर जाती है,
मुस्कान तेरी मोहन,
घायल कर जाती है।।

सोने की होती तो,
क्या करते तुम मोहन,
ये बांस की होकर भी,
दुनिया को नचाती है।।

तुम गोरे होते तो,
क्या कर जाते मोहन,
जब काले रंग पर ही,
दुनिया मर जाती है।।

दुख दर्दों को सहना,
बंसी ने सिखाया है,
इसके छेद है सीने मे,
फ़िर भी मुस्काती है।।

कभी रास रचाते हो,
कभी बंसी बजाते हो,
कभी माखन खाने की,
मन में आ जाती है।।

घनश्याम तेरी बंसी,
पागल कर जाती है,
मुस्कान तेरी मोहन,
घायल कर जाती है।।

माना मैं मजबूर हूँ लेकिन लिरिक्स | Mana Main Majbur Hu Lekin Lyrics | ENGLISH,

Ghanshyam Teri Bansi
Pagal Kar Jati Hai
Muskaan Teri Mohan
Ghayal Kar Jati Hai

Sone Ki Hoti To
Kya Karte Tum Mohan
Ye Baans Ki Hokar Bhi
Duniya Ko Nachati Hai

Tum Gore Hote To
Kya Kar Jate Mohan
Jab Kale Rang Par Hi
Duniya Mar Jati Hai

Dukh Dardo Ko Sehna
Bansi Ne Sikhaya Hai
Iske Chhed Hai Sine Me
Phir Bhi Muskati Hai

Kabhi Raas Rachate Ho
Kabhi Bansi Bajate Ho
Kabhi Maakhan Khane Ki
Man Me Aa Jati Hai

Ghanshyam Teri Bansi
Pagal Kar Jati Hai
Muskaan Teri Mohan
Ghayal Kar Jati Hai

Ghanshyam Teri Bansi Pagal Kar Jati Hai Lyrics

Leave a Comment